Free Horoscope, Indian Astrology ( ज्योतिष), Vastu,Read Palmistry (हस्तरेखा)

Friday, 1 February 2019

कर्ज/ ऋण से मुक्ति पाना है तो करे ये 24 अचूक उपाय

कर्ज/ ऋण से मुक्ति पाना है तो यह उपाय करें

ऋण मुक्ति के 24 उपाय

1॰ चर लग्न मेष, कर्क, तुला व मकर में कर्ज लेने पर शीघ्र उतर जाता है। लेकिन, चर लग्न में कर्जा दें नहीं। चर लग्न में पांचवें व नवें स्थान में शुभ ग्रह व आठवें स्थान में कोई भी ग्रह नहीं हो, वरना ऋण पर ऋण चढ़ता चला जाएगा।

2॰ किसी भी महीने की कृष्णपक्ष की 1 तिथि, शुक्लपक्ष की 2, 3, 4, 6, 7, 8, 10, 11, 12, 13 पूर्णिमा व मंगलवार के दिन उधार दें और बुधवार को कर्ज लें।

3॰ हस्त नक्षत्र रविवार की संक्रांति के वृद्धि योग में कर्जा उतारने से मुक्ति मिलती है।

4॰ कर्ज मुक्ति के लिए ऋणमोचन मंगल स्तोत्र का पाठ करें एवं लिए हुए कर्ज की प्रथम किश्त मंगलवार से देना शुरू करें। इससे कर्ज शीघ्र उतर जाता है।

5॰ कर्ज लेने जाते समय घर से निकलते वक्त जो स्वर चल रहा हो, उस समय वही पांव बाहर निकालें तो कार्य सिद्धि होती है, परंतु कर्ज देते समय सूर्य स्वर को शुभकारी माना है।

6॰ लाल मसूर की दाल का दान दें।

7॰ वास्तु अनुसार ईशान कोण को स्वच्छ व साफ रखें।

8॰ वास्तुदोष नाशक हरे रंग के गणपति मुख्य द्वार पर आगे-पीछे लगाएं।

9॰ हनुमानजी के चरणों में मंगलवार व शनिवार के दिन तेल-सिंदूर चढ़ाएं और माथे पर सिंदूर का तिलक लगाएं। हनुमान चालीसा या बजरंगबाण का पाठ करें।

10॰ ऋणहर्ता गणेश स्तोत्र का शुक्लपक्ष के बुधवार से नित्य पाठ करें।

11॰ बुधवार को सवा पाव मूंग उबालकर घी-शक्कर मिलाकर गाय को खिलाने से शीघ्र कर्ज से मुक्ति मिलती है

12॰ सरसों का तेल मिट्टी के दीये में भरकर, फिर मिट्टी के दीये का ढक्कन लगाकर किसी नदी या तालाब के किनारे शनिवार के दिन सूर्यास्त के समय जमीन में गाड़ देने से कर्ज मुक्त हो सकते हैं।

13॰ सिद्ध-कुंजिका-स्तोत्र का नित्य एकादश पाठ करें।
14॰ घर की चौखट पर अभिमंत्रित काले घोड़े की नाल शनिवार के दिन लगाएं।

15॰ श्मशान के कुएं का जल लाकर किसी पीपल के वृक्ष पर चढ़ाना चाहिए। यह कार्य नियमित रुप से ७ शनिवार को किया जाना चाहिए।

16॰ ५ गुलाब के फूल, १ चाँदी का पत्ता, थोडे से चावल, गुड़ लें। किसी सफेद कपड़े में २१ बार गायत्री मन्त्र का जप करते हुए बांध कर जल में प्रवाहित कर दें। ऐसा ७ सोमवार को करें।

17॰ ताम्रपत्र पर कर्जनाशक मंगल यंत्र (भौम यंत्र) अभिमंत्रित करके पूजा करें या सवा चार रत्ती का मूंगायुक्त कर्ज मुक्ति मंगल यंत्र अभिमंत्रित करके गले में धारण करें।

18॰ सर्व-सिद्धि-बीसा-यंत्र धारण करने से सफलता मिलती है।

19॰ कुश की जड़, बिल्व का पञ्चांग (पत्र, फल, बीज, लकड़ी और जड़) तथा सिन्दूर- इन सबका चूर्ण बनाकर चन्दन की पीठिका पर नीचे लिखे मन्त्र को लिखे। तदन्तर पञ्चिपचार से पूजन करके गो-घृत के द्वारा ४४ दिनिं तक प्रतिदिन ७ बार हवन करे। मन्त्र की जप संख्या कम-से-कम १०,००० है, जो ४४ दिनों में पूरी होनी चाहिये। ४३ दिनों तक प्रतिदिन २२८ मन्त्रों का जाप हो और ४४ वें दिन १९६ मन्त्रों का। तदन्तर १००० मन्त्र का जप दशांश के रुप में करना आवश्यक है। मन्त्र इस प्रकार है-

“ॐ आं ह्रीं क्रौं श्रीं श्रियै नमः ममालक्ष्मीं नाशय नाशय मामृणोत्तीर्णं कुरु कुरु सम्पदं वर्धय वर्धय स्वाहा।”

20॰ ऋण मुक्ति के लिये निम्न मंत्रों में से किसी एक का जाप नित्य प्रति करें-
(क) “ॐ गणेश! ऋण छिन्धि वरेण्यं हुं नमः फट्।”
(ख) “ॐ मंगलमूर्तये नमः।”
(ग) “ॐ गं ऋणहर्तायै नमः।”
(घ) “ॐ अत्रेरात्मप्रदानेन यो मुक्तो भगवान् ऋणात् दत्तात्रेयं तमीशानं नमामि ऋणमुक्तये।”

21॰ मंगलवार को शिव मंदिर में जाकर शिवलिंग पर मसूर की दाल “ॐ ऋण-मुक्तेश्वर महादेवाय नमः”मंत्र बोलते हुए चढ़ाएं।

22॰ भगवान विष्णु की प्रतिमा या चित्र के सम्मुख ७ बार, २१ बार या अधिक-से-अधिक ऋग्वेद के इस प्रसिद्ध मन्त्र का जप करें-
“ॐ भूरिदा भूरि देहिनो, मादभ्रं भूर्या भर।
भूरि धेदिन्द्र दित्ससि।
ॐ भूरि दाह्यसि श्रुतः पुरुजा शूर वृत्रहन्।
आ नो भजस्व राधसि।
(हे लक्ष्मीपते! आप दानी हैं, साधारण दानदाता ही नहीं बहुत बड़े दानी हैं। आप्तजनों से सुना है कि संसारभर से निराश होकर जो याचक आपसे प्रार्थना करता है उसकी पुकार सुनकर उसे आप आर्थिक कष्टों से मुक्त कर देते हैं-उसकी झोली भर देते हैं। हे भगवान्! मुझे इस अर्थ संकट से मुक्त कर दो।)

23॰ मंगल यन्त्र को किसी मंगलवार के दिन शुभमुहूर्त में, भोजपत्र के ऊपर, अनार की कलम से अष्टगंध के द्वारा लिखें। इसे प्रतिष्ठित कर निम्न मन्त्र की एक माला जप करें-“ॐ नमः भौमाय” फिर यन्त्र को ताबीज में भरकर धारण करें।यंत्र आवश्यकता अनुसार आपको भेजा जा सकता है।

24॰ “गजेन्द्र-मोक्ष-स्तोत्र” का नित्य एक पाठ करना चाहिए। इसे अधिक प्रभावशाली बनाने के लिये यदि गजेन्द्र-मोक्ष-स्तोत्र के उपरान्त “नारायण-कवच” का पाठ किया जाये तो अधिक श्रेयष्कर होगा
अभिषेक

                                                   
                                                         ... संकलित

Share:

Monday, 21 January 2019

वास्तु शास्त्र में रसोईघर की आंतरिक व्यवस्था व उपाय

वास्तु शास्त्र में रसोईघर की आंतरिक व्यवस्था के 13 अचूक उपाय 


हिन्दू धर्म में रसोईघर को अन्नपूर्णा का वास माना जाता है। इसलिए न केवल इसकी पवित्रता बल्कि घर में इसकी सही स्थिति और दिशा में होना जरुरी है। वास्तुशास्त्र की दृष्टि से नए या पुराने घरों में रसोई घर की स्थिति ठीक न होने पर अनेक अशुभ फल देखने को मिलते हैं। जैसे धनहानि, दिवालियापन , स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएं, पेट में गड़बडी, परिवार में कलह जैसे नकारात्मक प्रभाव होते हैं।

1.मकान में रसोई या किचन किस जगह और स्थिति में होना चाहिए -

2. वास्तु शास्त्र की दृष्टि से मकान में रसोईघर का  दक्षिण-पूर्व दिशा [आग्नेय ] में होना बहुत शुभ होता है

3.किचन में सूर्य की रोशनी सबसे ज्यादा आए। इस बात का हमेशा ध्यान रखें। किचन की साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें, क्योंकि इससे सकारात्मक [पॉजिटिव एनर्जी] उर्जा आती है।

4.किचन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा प्लेटफार्म हमेशा पूर्व में होना चाहिए और ईशान कोण में सिंक व अग्नि कोण चूल्हा लगाना चाहिए।

5 . किचन के रंग का चयन करते समय भी विशेष ध्यान रखें। महिलाओं की कुंडली के आधार पर रंग का चयन करना चाहिए। अगर गृहस्वामिनी मकर लग्न की है तो शुक्र ग्रह परम योगकारी  ग्रह होने से सफेद रंग लाभदायक हो जाता है ।

6.  किचन में ग्रेनाईट का उपयोग नही करना चाहिए क्योंकि ग्रेनाईट चमकीला होने की वजह से एक प्रकार से दर्पण के समान कार्य करता है और किचन में उत्पन्न होने वाली अग्नि को रिफ्लेक्ट करता है जिसकी वजह से गृहस्वामिनी का स्वास्थ खराब रहता है

7. सिंक और चूल्हे के उपर लॉफ्ट या दुछत्ती नही होनी चाहिए

8. ओवन,मिक्सी और बिजली से चलने वाले उपकरण को किचन के दक्षिण में स्थित प्लेटफार्म में रखना चाहिए

9. किचन में  हल्का सामान उत्तर और पूर्व में रखना चाहिए

10. किचन में भारी  सामान दक्षिण और पश्चिम  में रखना चाहिए

11.किचन में  फ्रिज वायव्य या दक्षिण में रखना चाहिए

12 . किचन में पूजा स्थान बनाना शुभ नहीं होता। जिस घर में किचन के अंदर ही पूजा का स्थान होता है, उसमें रहने वाले गरम दिमाग के होते हैं।

13 .अगर सिंक एवं चूल्हा पास-पास रखे हों और उन्हें अलग जगह हटाना सम्भव न हो तो मध्य में एक छोटा सा पार्टीशन करके पानी और आग को दूर दूर करना चाहिए।

                                                               संकलित

Share:

Thursday, 13 September 2018

Guru parvat par rekhaye love safalta

https://youtu.be/Uzusvkf5iwg
Share:

Ganesh chaturthi par ganpati puja avam stapna

https://youtu.be/edm9GzSgx-8
Share:

Tuesday, 21 August 2018

Triangle on Saturn Mount

Sani parvat par tribhuj
Triangle on Saturn Mount

Tribhuj

परस्पर तीन रेखाओं से मिलकर त्रिभुज की आकृति का निर्माण होता है यह अलग-अलग माउंट पर अपना अलग-अलग प्रभाव प्रदान करती है |
हस्तरेखा विज्ञान के द्वारा हथेली पर पाए जाने वाले चिन्ह तथा रेखाओं के द्वारा जीवन में होने वाली शुभ अशुभ घटनाओं के बारे में तथा लाभ और हानि के बारे में धन प्राप्ति के बारे में कब और किस उम्र में होगा यह जान सकते हैं।
 बहुत से जातकों के हाथ में त्रिभुज का चिन्ह पाया जाता है यह त्रिभुज का चिन्ह जितना बड़ा होगा व्यक्ति इतने विशाल ह्रदय का होता है 


शनि पर्वत पर त्रिभुज का चिन्ह
जिन जातकों के हाथ में शनि पर्वत पर त्रिभुज का निर्माण होता हो ऐसे जातक कुशल ज्योतिषी होते हैं तथा तंत्र मंत्र में इनकी रूचि होती है तथा रुचि होने के कारण ही यह तंत्र-मंत्र के ज्ञाता बनते हैं।

यदि यह त्रिभुज का चिन्ह दोस पूर्ण हो तो ऐसे व्यक्ति बड़े लेवल के ठग बनते हैं।
और यदि यह त्रिभुज का चिन्ह दोषरहित हो तो ऐसे जातक अपने जीवन में बहुत से सफलताएं हासिल करते हैं तथा गुप्त विद्याओं के ज्ञाता होते हैं
Share:

Thursday, 3 May 2018

Triangle sine on the mount of sun Surya parvat par tribhuj


Triangle sine on the mount of  sun
सूर्य पर्वत पर त्रिभुज का चिन्ह

Surya parvat par tribhuj

हस्त मै तीन रेखाओं से मिलकर त्रिभुज आकृति का निर्माण होता है।
यह आकृति अलग अलग पर्वत पर तथा रेखाओं पर अपना अलग अलग फल प्रदान करती है ।


मुख्यतः त्रिभुज की आकृति शुभ फल ही प्रदान करती है किंतु यदि यह दोषपूर्ण हो तो अपना पूर्ण शुभ फल प्रदान नहीं करती है । इसीलिए हाथ में कोई भी चिन्ह या रेखा दोषरहित होनी चाहिए ।


Surya parvat par tribhuj ka chinha
Tringal sin on mountof sun

यदि किसी जातक के हस्तमै सूर्य पर्वत पर त्रिभुज की आकृति का निर्माण होता है तो ऐसे जातकों को अपने जीवन में उच्च पद तथा ख्याति प्राप्त होने के पश्चात भी घमंड नहीं होता है।
 अर्थात वह अपने जीवन में अनेकों सफलताएं हासिल करके भी फेमस famous होकर भी अपनी जमीन से जुड़े रहते हैं वह घमंड स्वाभिमान नहीं करते हैं।


यह व्यक्ति अपनी बुद्धि और कला का उपयोग व्यावहारिकता से करते हैं।
इन्हीं अच्छी आदतों के कारण ऐसे जातकों को विश्वस्तरीय ख्याति प्राप्त होती है।
सूर्य पर्वत पर त्रिभुज का चिन्ह होना बहुत ही ज्यादा शुभ होता है जिन लोगों के हाथ में जो चिन्ह होता है वह अपने जीवन जीवन में बहुत प्रसिद्ध व्यक्ति बनते हैं।
Share:

Thursday, 26 April 2018

Panchang Today


             आज का पंचांग
          Panchang Today
Panchang today

      26 अप्रैल 2018
      एकादशी, शुक्ल पक्ष
       वैशाख
     
      तिथि एकादशी 09:19:57
      पक्ष शुक्ल
      नक्षत्र पूर्व फाल्गुनी 14:25:36
      योग घ्रुव 16:39:38
      करण विष्टि भद्र 09:19:57
      करण भाव 20:41:49
      वार गुरूवार
     
        माह
      (अमावस्यांत) वैशाख
      (पूर्णिमांत) वैशाख
      चन्द्र राशि सिंह till 20:17:46
      चन्द्र राशि कन्या from 20:17:46
      सूर्य राशि मेष
      रितु वसंत
      आयन उत्तरायण
      संवत्सर विलम्बी
      संवत्सर (उत्तर) विरोधकृत
      विक्रम संवत 2075
      विक्रम संवत (कर्तक) 2074
      शाका संवत 1940
      Solar Tithi 13
      Solar Month वैशाख
      सूर्योदय 05:54:11
      सूर्यास्त 18:55:29
      दिन काल 13:01:17
      रात्री काल 10:57:51
      चंद्रोदय 15:29:50
      चंद्रास्त 28:16:12


    *At Sunrise*
     लग्न मेष 11°38' , 11°38'
     सूर्य नक्षत्र अश्विनी
     चन्द्र नक्षत्र पूर्व फाल्गुनी
     पद, चरण
     3 टी पूर्व फाल्गुनी 08:34:21
     4 टू पूर्व फाल्गुनी 14:25:36
     1 टे उत्तर फाल्गुनी 20:17:46
      2 टो उत्तर फाल्गुनी 26:10:54


     मुहूर्त
     राहू काल 14:03 - 15:40 अशुभ
     यम घंटा 05:54 - 07:32 अशुभ
     गुली काल 09:10 - 10:47
     अभिजित 11:59 -12:51 शुभ
     दूर मुहूर्त 10:15 - 11:07 अशुभ
     दूर मुहूर्त 15:27 - 16:19 अशुभ
     लग्न मेष 11°38' , 11°38'


    चोघडिया, दिन
    शुभ 05:54 - 07:32 शुभ
    रोग 07:32 - 09:10 अशुभ
    उद्वेग 09:10 - 10:47 अशुभ
    चाल 10:47 - 12:25 शुभ
     लाभ 12:25 - 14:03 शुभ
     अमृत 14:03 - 15:40 शुभ
     काल 15:40 - 17:18 अशुभ
     शुभ 17:18 - 18:55 शुभ


    चोघडिया, रात
    अमृत 18:55 - 20:18 शुभ
    चाल 20:18 - 21:40 शुभ
    रोग 21:40 - 23:02 अशुभ
    काल 23:02 - 24:24 अशुभ
    लाभ 24:24 - 25:47 शुभ
    उद्वेग 25:47 - 27:09 अशुभ
    शुभ 27:09 - 28:31 शुभ
    अमृत 28:31 - 29:53 शुभ
Share:

Horoscope Today

    26 अप्रैल आज का राशि फल
     Horoscope Today April
Horoscope today

*मेष Horoscope Aries)*: घर परिवार में सुख सौख्य बना रहेगा। बड़ों से विनम्रतापूर्ण व्यवहार रखें। अपनी बातों को औरों पर थोपने से बचें। दिन सामान्य फलकारक। कामकाज सहज बना रहेगा।

*वृषभ Horoscope Tauras):* सभी के साथ संबंधों में सुधार आएगा। सामाजिक गतिविधियों में रूचि लेंगे। खर्च पर ध्यान देने की जरूरत है। प्रभावशील बने रहेंगे। दिन उत्तम फलकारक।

*मिथुन Horoscope Gemini)*: सुख सुविधाओं की अधिकता बनी रहेगी। अपनों के साथ श्रेष्ठ समय साझा करेंगे। मांगलिक कार्यों से जुड़ने का अवसर मिलेगा। धनधान्य संग्रह पर जोर रहेगा।


*कर्क Horoscope Cancer):* जानकारियों के प्रभावी प्रयोग पर जोर रहेगा। महत्वपूर्ण लोगों से मेल मुलाकात होगी। भाग्य पक्ष को बल मिलेगा। दिन अनुकूलता को बढ़ावा देने वाला। सक्रियता बढ़ाएं।

*सिंह Horoscope Leo)*: श्रम, सक्रियता और सहनशीलता का समन्वय कार्यगति सहज रखेगा। रिश्तों में मधुरता बढ़ेगी। खर्च बजट बिगाड़ सकता है। दिखावे और बड़बोलेपन से दूर रहें। दिन शुभ।

*कन्या Horoscope Virgo)*: सृजन सकारात्मकता और शुभेच्छाओं से उन्नतिशील बने रहेंगे। भ्रमण मनोरंजन रूचि रहेगी। लोकप्रियता में वृद्धि होगी। दिन करियर कारोबार में शुभता भरने वाला।


*तुला Horoscope Libra)*: आवश्यक कार्यों की गति बढ़ाएं। सभी का सहयोग बना रहेगा। सम्पत्ति संबंधी मामले हितकर रहेंगे। करीब के रिश्तों में सुधार आएगा। जिम्मेदारियों को निभाने में आगे रहेंगे।

*वृश्चिक Horoscope Scorpio)*: उम्मीद से अच्छा प्रतिफल मिलने की आशा कर सकते हैं। व्यावसायिक गतिविधियाँ बढ़ी हुई रहेंगी। वयक्ति विशेष को आकर्षित कर सकते हैं। भाग्य की प्रबलता का लाभ उठायें।

*धनु HoroscopeSagittarius):* अनुशासन और आदेशों पर सख्ती से अमल करें। आकस्मिकता बढ़ी हुई रह सकती है। विरोधियों से सतर्क रहें। दिन सामान्य फलकारक। मित्र भरोसेमंद रहेंगे। पठन पाठन में रुचि रहेगी।


*मकर Horoscope Capricorn)*: निजी पक्ष की मजबूती उत्साह और ऊर्जा को बढ़ावा देगी। धर्म आस्था और आत्मिक बल से लक्ष्यों की ओर उन्मुख होंगे। प्रेम सम्बन्ध प्रगाढ़ होंगे। दिन सुख सौख्य कारक।

*कुम्भ- Horoscope Aquarius* जिम्मेदारियों को प्राथमिकता से पूरा करने में जुटे रहें। जब तक एक कार्य सम्पन्न न हो जाये नयी शुरुआत से बचें। वाणी व्यवहार मधुर रखें। दिन संघर्ष से सफलता दिलाने।

*मीन Horoscope Pisces):* खुश रहेंगे और खुशियाँ बांटेंगे। प्रेम संबंधों में उल्लास और उजास का वातावरण बढेगा। मित्रों में विश्वसनीयता बढ़ेगी। पूछपरख में वृद्धि होगी। दिन शुभकारक।
Share:

Wednesday, 25 April 2018

Horoscope Today April

25 अप्रैल आज का राशि फल
Horoscope Today April
horoscope today



*मेष Horoscope Aries:* आवश्यक कार्यों को जल्द से जल्द पूरा करने की सोच रखें। देरी ओर ढिलाई से कार्य प्रभावित हो सकता है। पारिवारिक मामलों में बड़ों की सुनें। दिन शुभ फलकारक।

*वृषभ Horoscope Tauras:* सामाजिकता में रुचि बढ़ेगी। रहन सहन बेहतर बना रहेगा। मूल्यवान वस्तु की प्राप्ति संभव है। बंधुत्व को बल मिलेगा। दिन श्रेष्ठ फलकारक। सक्रियता बनाए रखें।

*मिथुन Horoscope Gemini*: प्रयासों को लक्ष्य तक पहुंचाने में सफल रहेंगे। घर परिवार में मांगलिक आयोजनों की रूपरेखा बनेगी। परिजनों के साथ खुशियां बांटेंगे। दिन उत्तम फलकारक।



*कर्क Horoscope Cancer:* योजनाओं की खामियों को जल्दी से दूर कर अमल में जुट जाएं। समर्पण और सक्रियता से सफलता अर्जित करेंगे। सृजनात्मकता बढ़ी हुई रहेगी। दिन हितकर।

*सिंह Horoscope Leo:* आर्थिक प्रयासों को शीघ्र पूरा करने पर जोर दें। आकस्मिक खर्च बढ़ने से बजट प्रभावित हो सकता है। रिश्ते मधुर बने रहेंगे। मान सम्मान बढ़त पर रहेगा। दिन शुभ।

*कन्या Horoscope Virgo:* अधिकाधिक समय करियर कारोबार में देने का प्रयास करें। आर्थिक लाभ बढ़त पर रहेगा। भाग्य का सहयोग बना रहेगा। शिक्षा संतान और प्रेम पक्ष में सक्रियता आएगी।



*तुला Horoscope Libra*: निसंकोच आगे बढ़ते रहें। जीत का प्रतिशत उम्मीद से अच्छा रहेगा। परिवार में सुख सौख्य रहेगा। सम्मानित हो सकते हैं। दिन उत्तम फलकारक। ईश्वर को धन्यवाद देना न भूलें।

*वृश्चिक Horoscope Scorpio:* परिस्थितियों में सकारात्मक बदलावा के संकेत हैं। पूर्व की बातों को भूल कर आगे बढ़ें। आगामी कुछ करियर कारोबार में वृद्धि में सहायक। दिन भाग्य पक्ष को बल देने वाला।

*धनु Horoscope Sagittarius:* आवश्यक कार्यों को शीघ्रतिशीघ्र पूरा करने की सोच रखें। अपनों मधुरता रखें। विपक्ष व्यर्थ की उलझन बढ़ा सकता है। गोपनीयता पर जोर दें। दिन सामान्य शुभ।



*मकर Horoscope Capricorn*: निजी मामलों में शुभता का संचार बढ़ेगा। विवाह योग्य जन श्रेष्ठ प्रस्ताव प्राप्त करेंगे। व्यर्थ की बातों पर ध्यान देने से बचें। स्थायित्व को बल मिलेगा। दिन शुभकर।

*कुंभ Horoscope Aquarius:* महत्वपूर्ण कार्यों को जल्द पूरा करने का प्रयास करें। परीक्षा प्रतियोगिता में जब तक आश्वस्त न हों, आराम न करें। खर्च बढ़ सकता है। दिन सामान्य से शुभ।

*मीन Horoscope Pisces:* जिम्मेदारियों को निभाने की हरसंभव कोशिश परिस्थितियों को आपकी पकड़ में बनाए रखेगी। सकारात्मकता बढ़त पर रहेगी। बौद्धिकता को बल मिलेगा। दिन शुभकर।
Share:

Today Panchang


                                        आज का पंचांग
                                    Today Panchang


panchang today

*25 अप्रैल 2018*
*दशमी, शुक्ल पक्ष*
*वैशाख*

तिथि दशमी 10:46:35
पक्ष शुक्ल
नक्षत्र माघ 15:05:42
योग वृद्वि 18:50:58
करण गरज 10:46:35
करण वाणिज 22:01:37
वार बुधवार

*माह*
(अमावस्यांत) वैशाख
(पूर्णिमांत) वैशाख
चन्द्र राशि सिंह
सूर्य राशि मेष
रितु वसंत
आयन उत्तरायण
संवत्सर विलम्बी
संवत्सर (उत्तर) विरोधकृत
विक्रम संवत 2075
विक्रम संवत (कर्तक) 2074
शाका संवत 1940

*Solar Tithi 12*
Solar Month वैशाख
सूर्योदय 05:55:04
सूर्यास्त 18:54:56
दिन काल 12:59:52
रात्री काल 10:59:15
चंद्रोदय 14:29:32
चंद्रास्त 27:36:40
*At Sunrise*
लग्न मेष 10°39' , 10°39'
सूर्य नक्षत्र अश्विनी
चन्द्र नक्षत्र माघ


*पद, चरण*
3 मू माघ 09:17:45
4 मे माघ 15:05:42
1 मो पूर्व फाल्गुनी 20:54:26
2 टा पूर्व फाल्गुनी 26:43:58

*मुहूर्त*
राहू काल 12:25 - 14:02 अशुभ
यम घंटा 07:33 - 09:10 अशुभ
गुली काल 10:48 - 12:25
अभिजित 11:59 -12:51 अशुभ
दूर मुहूर्त 11:59 - 12:51 अशुभ
लग्न मेष 10°39' , 10°39'
गंड मूल 05:55 - 15:06 अशुभ


*चोघडिया, दिन*
लाभ 05:55 - 07:33 शुभ
अमृत 07:33 - 09:10 शुभ
काल 09:10 - 10:48 अशुभ
शुभ 10:48 - 12:25 शुभ
रोग 12:25 - 14:02 अशुभ
उद्वेग 14:02 - 15:40 अशुभ
चाल 15:40 - 17:17 शुभ
लाभ 17:17 - 18:55 शुभ

*चोघडिया, रात*
उद्वेग 18:55 - 20:17 अशुभ
शुभ 20:17 - 21:40 शुभ
अमृत 21:40 - 23:02 शुभ
चाल 23:02 - 24:25 शुभ
रोग 24:25 - 25:47 अशुभ
काल 25:47  - 27:09 अशुभ
लाभ 27:09 - 28:32 शुभ
उद्वेग 28:32 - 29:54 अशुभ
Share:

Monday, 23 April 2018

Triangle sign on Mount of Venus sukra parvat par tribhuj

शुक्र पर्वत पर त्रिभुज का चिन्ह
triangle sign on mount of venus

triangle sign on mount of venus


जिन जातकों के शुक्र पर्वत (venus mount)पर त्रिभुज का चिह्न होता है वह जातक सरल स्वभाव के होते हैं।

 यह जातक प्रेम (love and affairs) आदि मामलों में सोच समझकर गंभीरता से निर्णय लेते हैं। इन जातकों का प्रेम संबंध संयमित होते हैंं ।

जिन जातको के शुक्र पर्वत पर त्रिभुज tringal का चिन्ह होता है वह संगीत ,कला ,नृत्य आदि में रुचि रखने वाले होते हैं।
 यदि त्रिभुज का चिन्ह दूषित हो तो इन यह कामवासना में ही लगे रहते हैं।
Share:

TRANSLATE

Followers

Facebook

YouTube

Astrogarden. Powered by Blogger.

Contact Form

Name

Email *

Message *

Follow by Email

Search This Blog